Khabar RSS Feed
Subscribe Magazine on email:    

'नफरत की दुनिया' छोड़ गए राजेश खन्ना

the world of hate rajesh khanna left

19 जुलाई 2012

मुम्बई।  हिंदी फिल्म जगत के पहले सुपरस्टार राजेश खन्ना का बुधवार को निधन हो गया। वह इधर कई महीनों से बीमार थे। 69 वर्षीय अभिनेता ने मुम्बई के कोकिलाबेन अंबानी अस्पताल में अंतिम सांस ली। राष्ट्रपति प्रतिभा पाटील, प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और सूचना एवं प्रसारण मंत्री अम्बिका सोनी और कई राज्यों के मुख्यमंत्रियों सहित सिने जगत की कई हस्तियों ने उनके निधन पर गहरा शोक जताया।

'काका' के नाम से मशहूर राजेश खन्ना का जन्म 29 दिसम्बर, 1942 को अमृतसर में हुआ था। उन्हें चुन्नी लाल खन्ना और उनकी पत्नी लीला देवी ने गोद लिया था। उनके परिवार में पत्नी डिम्पल कपाड़िया और बेटी ट्विंकल व रिंकी खन्ना हैं। उनका अंतिम संस्कार गुरुवार सुबह 11 बजे मुम्बई में होगा।

उनके अभिनेता दामाद अक्षय कुमार ने कहा, "मुझे आप सभी को यह बताते हुए दुख हो रहा है कि मेरे ससुर राजेश खन्ना अब इस दुनिया में नहीं रहे।"

फिल्म बिरादरी, देश के राजनीतिक नेताओं और प्रशंसकों ने राजेश को बेमिसाल हस्ती के रूप में याद किया। अमिताभ बच्चन, यश चोपड़ा, ऋषि कपूर, प्रेम चोपड़ा, अभिषेक बच्चन, अनु मलिक, विंदू दारा सिंह, साजिद खान, अरबाज खान और मलाइका अरोड़ा खान अभिनेता के निधन के बाद उनके बांद्रा स्थित निवास 'आशीर्वाद' पर पहुंचे।

राजेश ने अपने फिल्मी करियर की शुरुआत वर्ष 1966 में फिल्म 'आखिरी खत' से की थी। इसके बाद वह 'आराधना', 'दो रास्ते', 'सफर' और 'आनंद', 'अमर प्रेम', 'दुश्मन', 'हाथी मेरे साथी' 'कटी पतंग', 'बावर्ची' जैसी फिल्मों से बॉलीवुड के सुपरस्टार बन गए। वह आखिरी बार इस वर्ष की शुरुआत में हेवल्स पंखों के विज्ञापन में नजर आए थे।

उनके निधन से हिंदी फिल्म जगत सहित देशभर में उनके प्रशंसकों के बीच शोक की लहर दौड़ गई। राजेश खन्ना वर्ष 1991-1996 के बीच नई दिल्ली संसदीय क्षेत्र से कांग्रेस के सांसद रहे।

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने ट्विटर पर लिखा है, "उनका निधन बॉलीवुड ही नहीं, देश के लिए अपूरणीय क्षति है। मैं राजेश खन्ना के शोकसंतप्त परिजनों तथा उनके अनगिनत प्रशंसकों के प्रति तहेदिल से संवेदना व्यक्त करता हूं।"

सूचना एवं प्रसारण मंत्री अम्बिका सोनी ने कहा, "राजेश खन्ना एक दिग्गज और हमारे सुपरहीरो थे। वह अपने पीछे युवा पीढ़ियों के लिए समृद्ध विरासत छोड़ गए हैं। हम राजेश के जीवन के सफर पर प्रकाश डालने के लिए कार्यक्रम के आयोजन की योजना बना रहे हैं।"

बॉलीवुड की बहुत सी हस्तियों ने भी 'काका' के प्रति ट्विटर पर अपनी भावनाएं व्यक्त की।

अनुपम खेर ने लिखा, "राजेश खन्ना ने हमें रोमांस का कै्रश कोर्स दिया है। उन्होंने हमारा एक विशेष चीज से परिचय कराया है, जो हमें अपने आप में अच्छा महसूस कराती है। राजेश खन्ना ने हमें सिखाया कि किस तरह हंसा जाता है। उन्होंने हमारी रोमांस की अवधारणा में आत्मसम्मान डाल दिया। उनके गीत हमें जीवन के दैनिक संघर्षो को भुला देते हैं।"

माधुरी दीक्षित ने लिखा, "हिंदी सिनेमा का एक और दिग्गज नहीं रहा। उनके परिवार के साथ हमारी सच्ची संवेदनाएं हैं। हम उन्हें बहुत याद करेंगे।"

शिल्पा शेट्टी ने कहा, "अभी-अभी यह दुखद समाचार सुना। इस अपूर्णीय क्षति से निपटने के लिए हमारी प्रार्थना और संवेदनाएं उनके परिवार के साथ हैं। राजेश खन्ना आप हमेशा सुपरस्टार रहेंगे।"

मधुर भंडारकर ने लिखा, "स्टारडम का प्रतीक हमारे बीच नहीं रहा। काका जी, न आप जैसा कोई था, न है और न कभी होगा। हम आपको बहुत याद करेंगे।"

महेश भट्ट ने कहा, "जब हम कभी किसी अपने को खो देते हैं, तो हमारे अंदर भी कुछ मर जाता है। हमारी पीढ़ी राजेश खन्ना को पसंद करती थी। आज इस रहस्यमय अभिनेता की मौत के साथ हमारे अंदर भी कुछ मर गया है।"

तुषार कपूर ने लिखा, "मैंने उनके साथ फिल्म 'क्या दिल ने कहा' में काम किया और उनसे सिर्फ बातचीत करने से ही बहुत कुछ सीखा। भगवान उनकी आत्मा को शांति दे।"

दीया मिर्जा ने कहा, "बाबू मोशाय ईटो भालो होलो ना..'आनंद', 'कटी पतंग', 'बावर्ची' और बहुत सी और फिल्में..आप क्या विरासत छोड़कर गए हैं।"

मनोज बाजपेयी ने लिखा, "नफरत की दुनिया को छोड़ के प्यार की दुनिया में खुश रहना मेरे यार! मुझे आज भी फिल्म 'हाथी मेरे साथी' याद है। इसे मैंने बचपन में देखा था। हम आपको बहुत याद करेंगे।"

इनके अलावा पूजा बेदी, दिव्या दत्ता, श्रेयस तलपदे, केन घोष, राहुल बोस, प्रतीक सहित अन्य बॉलीवुड हस्तियों ने शोक प्रकट किया।

1970 के दशक के सुपरस्टार राजेश खन्ना की मातृभूमि अमृतसर में जहां उनका परिवार रहता है, अब एक 'मंदिर' बन गया है। सिखों के इस पवित्र शहर की गली तिवाड़िया के जिस मकान में उनका परिवार रहता है, उसे कई साल पहले राजेश खन्ना ने बनवाया था। उन्होंने वहां एक मंदिर भी बनवाया। इस वर्ष जनवरी में अंतिम बार वह अपनी जन्मभूमि पर आए थे।

राजेश के पोष्य भाई मुनी चंद खन्ना ने कहा, "वह जब यहां रहते थे, अक्सर क्रिकेट खेला करते थे। वह जब यहां थे, तब एक साधारण लड़का थे और ढेर सारी उपलब्धियां हासिल करने पर भी साधारण जीवन जीते थे।"

उल्लेखनीय है कि दिवंगत सुपरस्टार का नाम पहले जतिन खन्ना था। जब उन्होंने फिल्मों में जाने का फैसला लिया तब उनके चाचा ने उनका नाम बदलकर राजेश रख दिया था।


 

More from: Khabar
31925

ज्योतिष लेख