Technology RSS Feed
Subscribe Magazine on email:    

नए उपकरण से होगी डेंगू मच्छरों की पहचान

the new tool will identifiy dengue mosquitoes

  23 मई 2012

सिडनी। एक नए उपकरण से डेंगू वायरस-वाहक मच्छरों की पहचान हो सकेगी। इससे दुनियाभर में होने वाले डेंगू संक्रमण को कम करने में मदद मिल सकेगी।

हर साल डेंगू संक्रमण से करीब 10 लाख लोग गम्भीर रूप से प्रभावित होते हैं और उन्हें अस्पतालों में भर्ती होना पड़ता है। इनमें ज्यादातर बच्चे होते हैं। इसके अलावा दुनियाभर में करीब 10 करोड़ लोग कम खतरनाक डेंगू से प्रभावित होते हैं।

क्वींसलैंड विश्वविद्यालय के डेविड मुलर व साथियों और मेलबर्न व दक्षिण अमेरिका के शोध समूहों ने एक साधारण उपकरण बनाया है। इस उपकरण को किसी क्षेत्र में लगाकर वहां बड़ी संख्या में मच्छरों में डेंगू संक्रमण का पता लगाया जा सकता है।

जर्नल ऑफ वायरोलॉजिकल मेथड्स के मुताबिक मुलर ने कहा, "अन्य तरीकों से जहां मच्छरों को निगरानी की जाती है, वहीं नया उपकरण बताएगा कि मच्छरों में डेंगू वायरस है अथवा नहीं।"

विश्वविद्यालय द्वारा जारी एक वक्तव्य के मुताबिक मुलर ने कहा, "यह तेजी से और विशिष्टता के साथ काम करता है और इसके लिए विशेष उपकरण या विशेषज्ञता प्राप्त कर्मचारी की आवश्यकता नहीं है। इसका मतलब है कि इसका इस्तेमाल विश्व के उन विकासशील क्षेत्रों में किया जा सकता है, जहां डेंगू एक प्रमुख स्वास्थ्य समस्या व आर्थिक बोझ है।"

दुनिया की लगभग आधी आबादी के डेंगू वायरस की चपेट में आने का खतरा है। मादा मच्छर के काटने से मानव में इस वायरस का संक्रमण होता है।

मुलर के सहयोगी पॉल यंग ने कहा, "इस उपकरण को बनाने का लक्ष्य केवल मच्छरों की संख्या ज्ञात करना नहीं बल्कि उनमें संक्रमण का स्तर ज्ञात करना भी है।"

यंग ने बताया, "मोबाइल के इस्तेमाल से जीपीएस सूचना के जरिए समन्वय केंद्रों तक यह जानकारी सीधे तौर पर पहुंचाई जा सकती है।"

 

More from: Technology
30851

ज्योतिष लेख