Khabar RSS Feed
Subscribe Magazine on email:    

मैं बाल फिल्म नहीं बना सकता : इम्तियाज अली

i can not make childrens flim imtiaz ali

19 जुलाई 2012

मुम्बई। लेखक-निर्देशक इम्तियाज अली का कहना है कि उनका दिल इतना पाक-साफ नहीं है कि वह बाल फिल्म बनाएं।
 
 
41 साल के इम्तियाज ने 'गट्टू' फिल्म के प्रीमियर पर कहा, "मैं ऐसी फिल्में नहीं बना सकता क्योंकि बाल फिल्म बनाने के लिए आपका दिल साफ और मुलायम होना चाहिए और मैं अंदर से इतना पाक-साफ नहीं हूं इसीलिए में यह कोशिश नहीं कर सकता। "
 
 
राजन खोसा द्वारा निर्देशित 'गट्टू' भारतीय बाल फिल्म सोसाइटी (सीएफएसआई) की पहली ऐसी फिल्म है जो व्यावसायिक रूप से सिनेमाघरों में प्रदर्शित की जाएगी। यह फिल्म आगामी शुक्रवार को रिलीज होगी।
 
वहीं 'मकड़ी' जैसी बच्चों पर आधारित फिल्म बनाने वाले निर्माता विशाल भारद्वाज का मानना है कि सिनेमाघरों में बाल फिल्मों के रिलीज न होने की वजह से बच्चे उन्हें देखने से वंचित रह जाते हैं।
 
उन्होंने कहा, "'गट्ट'ू के सिनेमाघरों में रिलीज होने का श्रेय सीएफएसआई की अध्यक्ष नंदिता दास और इसका वितरण कर रही राजश्री को जाता है। मुझे लगता है कि यह एक खूबसूरत फिल्म है। सामान्यत: बच्चों के लिए जो फिल्में बनाई जाती है वह सिनेमाघरों तक नहीं पहुंच पातीं। मुझे खुशी है कि यह फिल्म रिलीज हो रही है और मैं उम्मीद करता हूं कि बच्चे इसे पसंद करेंगे। "
 

फरवरी में बर्लिन में हुए अंतर्राष्ट्रीय फिल्म समारोह में  , "'गट्ट'ूकी खास तौर से चर्चा की गई थी।


 

More from: Khabar
31937

ज्योतिष लेख