Get free astrology & horoscope 2013
Rang-Rangili RSS Feed
Subscribe Magazine on email:    

तेज आवाज से कमजोर होती है सुनने की शक्ति

fast sound is weak the strength to hearing

23 मई 2012
 
वाशिंगटन। ज्यादा तेज आवाज सुनना कानों के लिए हानिकारक होता है। हाल ही में हुए अध्ययन के अनुसार एक संगीत कार्यक्रम में शामिल होने के बाद करीब 72 प्रतिशत किशोरों ने अनुभव किया कि उनके सुनने की शक्ति कम हो गई है। हाउस रिसर्च इंस्टीट्यूट के चिकित्सक एम. जेनिफर डेरेबेरी और उनके साथियों ने संगीत कार्यक्रम में जाने से पहले और आने के बाद किशोरों की सुनने की शक्ति की जांच की।

उन्होंने पाया कि इस तरह से सुनने की शक्ति में आई कमी अस्थायी होती है, जो सम्भवत: 48 घंटों में दूर हो जाती है।

अध्ययन का नेतृत्व करने वाले डेरेबेरी ने बताया, "किशोरों को यह समझने की जरूरत है कि संगीत कार्यक्रम या किसी निजी संगीत यंत्र की तेज आवाज सुनने की शक्ति कम कर सकती है।"

कई मामलों में सुनने की शक्ति स्थायी रूप से भी खत्म हो सकती है।

विज्ञान पत्रिका 'ओटोलॉजी एंड न्यूरोटोलॉजी' की रपट के अनुसार किशोरों के एक समूह को माता-पिता की सहमति के बाद एक रॉक संगीत कार्यक्रम के निशुल्क टिकट दिए गए। सभी किशोर मंच के सामने पहली दो पंक्तियों में एक-दूसरे के नजदीक बैठे।

शोधकर्ताओं ने वहां मौजूद कर्मचारियों को किशोरों को फोम से बने इयर प्लग देने को कहा लेकिन सिर्फ तीन किशोरों ने ही इन्हें लिया। तीन शोधकर्ता भी उनके साथ वहीं बैठे।

संगीत कार्यक्रम के बाद 53.6 प्रतिशत किशोरों ने कहा कि उन्हें नहीं लगता कि वे पहले जैसा सुन पा रहे हैं।

वहीं 25 प्रतिशत ने कहा कि वे कार्यक्रम के बाद कान बजने का अनुभव कर रहे हैं।

डेरेबेरी ने कहा कि हमें निश्चित तौर पर यह सुनिश्चित करने की जरूरत है कि संगीत कार्यक्रमों में ध्वनि का स्तर को इतना अधिक न रखा जाए कि वह व्यस्कों और किशोरों में सुनने की शक्ति को नुकसान पहुंचाए।

More from: Rang-Rangili
30852

मनोरंजन
जानें ऑडिशन में सफल होने के गुर

एक्टिंग में करियर बनाने वाले लोगों के लिए मनोज रमोला ने लिखी है एक किताब जिसका नाम है ऑडिशन रूम। इस किताब में लिखे हैं ऑडिशन में सफल होने के सभी गुर।

ज्योतिष लेख
इंटरव्यू
मेरा अलग 'लुक' भी मेरी पहचान है : इमरान हसनी

हिन्दी सिनेमा में चरित्र अभिनेताओं के संघर्ष की राह आसान नहीं होती। इन्हीं रास्तों में से गुज़र रहे हैं इमरान हसनी। 'पान सिंह तोमर' में इरफान खान के बड़े भाई की भूमिका निभाकर चर्चा में आए इमरान हसनी अब इंडस्ट्री में नयी पहचान गढ़ रहे हैं। यूं कशिश व रिश्तों की डोर जैसे सीरियल और ए माइटी हार्ट जैसी अंतरराष्ट्रीय फिल्में उनके झोले में पहले ही थीं। एक ज़माने में सॉफ्टवेयर इंजीनियर रहे इमरान से अभिनय के शौक व उनकी चुनौतियों के बारे में बात की गौरी पालीवाल ने।

बॉलीवुड एस्ट्रो
बोलता कैलेंडर: तारीख़, समय, मुहूर्त को बोलकर बताता है यह ऐप

बोलता कैलेंडरबोलेगा आज की तारीख़, समय, दिन, राहुकाल, अभिजीत मुहूर्त, तिथि, नक्षत्र, योगा, करण, पंचक, भद्रा, होरा और चौघड़िया साल 2019 के लिए।