Rang-Rangili RSS Feed
Subscribe Magazine on email:    

इंसानों की तरह आपस में बहस करते हैं हाथी

elephants-discuss-like-human-being-06201107

7 जून 2011

लंदन। यह कहा जाए कि हाथी भी इंसानों की तरह किसी मुद्दे पर आपस में बहस करते हैं तो थोड़ा अजीब लगेगा लेकिन यह सच है। हाथी खासतौर पर रास्ते की दिशा को लेकर आपस में बहस करते हैं।

संरक्षणवादियों का मानना है कि आपस में बहस करने के अलावा नर हाथी अपने झुंड की मादा हाथी का प्यार पाने के लिए आपस में प्रतिस्पर्धा भी करते हैं और साथ ही साथ उसे रिझाने के लिए कई तरह की हरकतें भी करते हैं।

आपस में किसी मुद्दे को लेकर बहस करना हाथियों के सामाजिक होने का सबसे बड़ा उदाहरण है। इस लिहाज से हाथी मानव आदतों के काफी करीब हैं।

केन्या के एम्बोसेली नेशनल पार्क में हाथियों पर 40 वर्षो तक गहन शोध करने वाले संरक्षणवादियों का मानना है कि हाथी इस बात को लेकर सर्वाधिक बहस करते हैं कि उन्हें विशालकाय अभ्यारण्य में कौन सा रास्ता चुनना है। इसके लिए हाथी बहुत ही जटिल सांकेतिक भाषा का प्रयोग करते हैं।

हाथी अपनी बात कहने के लिए आमतौर पर शारीरिक हावभाव और कुछ आवाजों का सहारा लेते हैं। इस लिहाज से भी वे मानव व्यवहार से काफी मेल खाते हैं।

एक दूसरे से मिलने के बाद हाथियों का कंधे रगड़ना, अपनी सूंड को सिकोड़ना और सूंड उठाना सांकेतिक भाषा के तौर पर देखे जाते हैं। इसके माध्यम से हाथी एक दूसरे को खेलने के लिए आमंत्रित करते हैं।

किसी गंतव्य की ओर जाते वक्त अगर रास्ता समझ नहीं आ रहा हो तो हाथी लम्बे समय तक चलने वाली सांकेतिक बहसबाजी के जरिए सही रास्ता चुनने का प्रयास करते हैं और गंतव्य की ओर तभी बढ़ते हैं, जब तक की सही रास्ता मिल नहीं जाता है।

More from: Rang-Rangili
21399

ज्योतिष लेख