Kathadesh RSS Feed
अन्ना हजारे के नाम एक युवा नेता का खत Kathadesh

रवीन्द्र त्रिपाठी

आजकल जिधर देखो आपकी ही चर्चा है. अखबारों में तो आप छाए ही हो लेकिन टीवी चैनलों पर तो आपने धूम ही मचा दी है. आपके आंदोलन का एक बड़ा फायदा तो ये हुआ कि कई खबरिया चैनलों पर दिखाई देनेवाले ऐसे कार्यक्रम फिलहाल बंद हैं जिनको देखने के बाद रात में ठीक से नींद नहीं आती थी.

‘अरे कोई प्रेमचंद है’ ‘कौन प्रेमचंद है’ Kathadesh

विश्वनाथ त्रिपाठी

बिहार के उत्साही साहित्यकारों ने प्रेमचंद को अपने यहाँ भाषण देने के लिए निमंत्रित किया. प्रेमचंद ने निमंत्रित करने वाले साहित्यकारों को ट्रेन से आने की तिथि और समय की सूचना दे दी.

अण्णा का आंदोलन, छद्म इवेंट और मीडिया चालन Kathadesh

दिलीप मंडल

‘‘सच में बड़ा चमत्कारी है अन्ना का तथाकथित आंदोलन. टी.वी. बंद करते ही गायब हो जाता है, फिर कहीं नजर नहीं आता... टी.वी. खोलते ही प्रकट हो जाता है.’’- फेंसबुक पर रितु रंजन कुमार का कमेंट.

लोकवृत- साक्षात्कार-सम्वाद Kathadesh

विभास वर्मा

‘कथाक्रम’ के नये अंक (जुलाई-सितम्बर-2011) में उदय प्रकाश ने अपने साक्षात्कार में कहा है कि आलोचना की स्थिति को व्यापक अकादमिक फेल्योर के रूप में देखना चाहिए.

हिन्दी रंगपरिदृश्य और नाट्यालेखन Kathadesh

हृषीकेश सुलभ

हिन्दी साहित्य और रंगमंच की दुनिया में नाट्यालेखन गम्भीर विमर्श की बाट जोह रहा है. साहित्य की दुनिया ने इसे रंगमंच के खाते में डालकर मुक्ति पा ली है और रंगमंच की दुनिया आरोपों-प्रत्यारोपों में उलझी हुई है.

राख Kathadesh

साजिद रशीद

भयानक बीमारी और बेरहम मौत भी शमा के चेहरे की कशिश को खत्म नहीं कर सकी... जमाल ने फ़र्श पर रखी बीवी की लाश को देखते हुए सोचा. शमा का मुर्दा जिस्म सफेद चादर से ढका हुआ था, केवल चेहरा खुला था.

परमानन्द शास्त्री की कविताएं Kathadesh

परमानन्द शास्त्री

अथ नदी उद्दाम नदी के वेग से सहमे किनारों ने कहा सुनो नदी

यमराज की बग्‍घी Kathadesh

हरिओम

यही वह घटना थी जिसके बाद छोटे ददन की निगाह फूला पर पड़ी थी. छोटे ददन अजकल पंचायत और आसपास की हर छोटी-बड़ी घटना पर बराबर नजर रखते थे

ज्योतिष लेख