Khabar RSS Feed
Subscribe Magazine on email:    

केरल में बनेगा विशेष बोटैनिकल गार्डन

botancial garden in kerla will be special

12 जुलाई 2012

तिरूवनंतपुरम।  केरल स्टेट बायोडायवर्सिटी बोर्ड (केएसबीबी) पश्चिमी घाट के केरल क्षेत्र में पाए जाने वाले विविध प्रकार के वनस्पतियों और जीव-जंतुओं को प्रदर्शित करने के लिए एक विशेष बोटैनिकल गार्डन बनाने की योजना पर काम कर रहा है। केएसबीबी के सदस्य सचिव के.पी. लालाढास ने आईएएनएस को बताया कि यह योजना ऐसे समय में आई है जब विश्व धरोहर समिति (डब्ल्यूएचसी) ने रूस के सेंट पीट्सबर्ग में एक बैठक के दौरान पश्चिमी घाट के 39 स्थलों को विश्व धरोहर की सूची में शामिल करने का फैसला किया है।

पश्चिमी घाट के अंदर 7,95,315 हेक्टेयर क्षेत्र आते हैं, जिसमें से 46 प्रतिशत हिस्सा केरल में है।

लालाढास ने कहा, "पश्चिमी घाट के 39 में से 19 स्थान केरल में हैं। केरल के इन स्थानों पर फूल वाले पौधों की लगभग चार हजार प्रजातियां पाई जाती है। हम इन प्रजातियों के पौधों को इडुक्की जिले में बनने वाले विशेष बोटैनिकल गार्डन में भी लगाएंगे। इस गार्डन को साधारण जनता के लिए खुला रखा जाएगा।

गार्डन के लिए इडुक्की को इसलिए चुना गया है, क्योंकि यहां की जलवायु पश्चिमी घाट के समान है।

उन्होंने कहा कि पर्यटक इस अनोखे गार्डन में पश्चिमी घाट के केरल क्षेत्र में पाए जाने वाले वनस्पतियों तथा जीव-जंतुओं की विविध प्रजातियों को देख सकेंगे। इन्हें देखने का अवसर कम ही लोगों को मिल पाता है।

लालाढास ने कहा, "यह योजना सबसे पहले राज्य सरकार को सौंपी जाएगी और इस संबंध में राष्ट्रीय जैवविविधता प्राधिकरण से सहयोग और मार्गदर्शन मांगा जाएगा। हमें उम्मीद है कि विश्व धरोहर समिति के हाल के फैसले से भी इस गार्डन की योजना को बल मिलेगा, क्योंकि यह देश ही नहीं बल्कि दुनिया भर के वनस्पति विज्ञान शोधार्थियों के लिए एक खजाने से कम नहीं होगा।"

More from: Khabar
31803

ज्योतिष लेख