Get free astrology & horoscope 2013
Khabar RSS Feed
Subscribe Magazine on email:    

सैन्य खरीददारी प्रक्रिया सहज व कारगर हो : एंटनी

a k antony, arms deal, army purchase should be simple and effective

2 अप्रैल 2012

नई दिल्ली |  रक्षा मंत्री ए.के. एंटनी ने सोमवार को सेना से कहा कि सैन्य खरीददारी की प्रक्रिया ऐसी हो ताकि किसी गड़बड़ी की स्थिति में जवादेही तय की जा सके।

यह बात एंटनी ने साउथ ब्लाक में सेना के मुख्य अधिग्रहण प्रस्तावों को अंतिम रूप देने के लिए आयोजित एक बैठक में जनरल वी.के. सिंह के नेतृत्व वाले सैन्य अधिकारियों के दल से कही।

सेवानिवृत्त अधिकारी द्वारा रिश्वत की पेशकश और प्रधानमंत्री को लिखे गोपनीय पत्र के लीक होने को लेकर बढ़ी दूरियों के बाद पहली बार एंटनी और जनरल सिंह आमने-सामने हुए हैं।

यह बैठक पिछले वर्ष सितम्बर और फिर जनवरी में हुई समीक्षा बैठकों की अगली कड़ी थी।

रक्षा मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने यहां कहा, "बैठक में एंटनी ने सेना को निर्देश दिया कि अधिग्रहण प्रक्रिया इस तरीके की हो कि किसी गड़बड़ी की स्थिति में जवाबदेही तय की जा सके।"

एंटनी ने रक्षा मंत्रालय और सेना के अधिकारियों से यह भी कहा कि तकनीकी मूल्यांकनों और परीक्षणों के लिए कम समय रखने की सम्भावना तलाशी जाए।

ऐसा देखा गया है कि सेना और रक्षा मंत्रालय किसी प्रमुख उपकरण की खरीदी प्रक्रिया पूरी करने में लगभग सात वर्ष लगाते हैं।

एंटनी ने कहा कि यदि सैन्य मुख्यालय को अधिक वित्तीय अधिकार देने से सेना के लिए उपकरणों, प्लेटफार्मो और प्रणालियों के अधिग्रहण में तेजी आ सकती है, तो वे इसका समर्थन करेंगे।

मौजूदा समय में सेना के वाइस चीफ 50 करोड़ रुपये या इससे कम धनराशि के रक्षा करारों को मंजूरी दे सकते हैं।

इसके अलावा रक्षा अधिग्रहण को मंजूरी देने के अधिकार रक्षा सचिव, रक्षा मंत्री तथा रक्षा मंत्रालय के पास हैं। रक्षा सचिव 75 करोड़ रुपये के करार को मंजूरी दे सकते हैं, रक्षा मंत्री 500 करोड़ रुपये के करार को मंजूरी दे सकते हैं, और रक्षा मंत्रालय वित्त मंत्री की सहमति से 1,000 करोड़ रुपये के करार को मंजूरी दे सकता है।

बैठक में रक्षा सचिव शशिकांत शर्मा, महानिदेशक (अधिग्रहण) विवेक राय और सेना के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

सेना के लम्बित प्रमुख अधिग्रहणों में 20,000 करोड़ रुपये कीमत की तोपें शामिल हैं, जो पुरानी तोपों व हवाई रक्षा हथियारों का स्थान लेंगी।

More from: Khabar
30258

मनोरंजन
जानें ऑडिशन में सफल होने के गुर

एक्टिंग में करियर बनाने वाले लोगों के लिए मनोज रमोला ने लिखी है एक किताब जिसका नाम है ऑडिशन रूम। इस किताब में लिखे हैं ऑडिशन में सफल होने के सभी गुर।

ज्योतिष लेख
इंटरव्यू
मेरा अलग 'लुक' भी मेरी पहचान है : इमरान हसनी

हिन्दी सिनेमा में चरित्र अभिनेताओं के संघर्ष की राह आसान नहीं होती। इन्हीं रास्तों में से गुज़र रहे हैं इमरान हसनी। 'पान सिंह तोमर' में इरफान खान के बड़े भाई की भूमिका निभाकर चर्चा में आए इमरान हसनी अब इंडस्ट्री में नयी पहचान गढ़ रहे हैं। यूं कशिश व रिश्तों की डोर जैसे सीरियल और ए माइटी हार्ट जैसी अंतरराष्ट्रीय फिल्में उनके झोले में पहले ही थीं। एक ज़माने में सॉफ्टवेयर इंजीनियर रहे इमरान से अभिनय के शौक व उनकी चुनौतियों के बारे में बात की गौरी पालीवाल ने।

बॉलीवुड एस्ट्रो
बोलता कैलेंडर: तारीख़, समय, मुहूर्त को बोलकर बताता है यह ऐप

बोलता कैलेंडरबोलेगा आज की तारीख़, समय, दिन, राहुकाल, अभिजीत मुहूर्त, तिथि, नक्षत्र, योगा, करण, पंचक, भद्रा, होरा और चौघड़िया साल 2019 के लिए।