Khabar RSS Feed
Subscribe Magazine on email:    

एयर इंडिया के पायलटों का चिकित्सा अवकाश जारी, 3 उड़ानें रद्द

air india pilot strikes continue

9 मई 2012

मुम्बई। सामूहित रूप से चिकित्सा अवकाश पर गए एयर इंडिया के पायलटों के दूसरे दिन भी विरोध जारी रहने के कारण बुधवार को प्रबंधन को तीन अंतर्राष्ट्रीय उड़ानें रद्द करनी पड़ी। एक अधिकारी ने बताया, "पायलटों की अनुपलब्धता के कारण बीती रात से नई दिल्ली-सिंगापुर, मुम्बई-नेवार्क और मुम्बई-न्यूयार्क उड़ान को रद्द करना पड़ा। हमने यात्रियों के लिए वैकल्पिक उपाय किए हैं।"

हालांकि अधिकारी ने इस पर टिप्पणी करने से इंकार कर दिया कि एयर इंडिया की मंगलवार शाम छह बजे तक काम पर लौटने की चेतावनी पर कितने पायलटों ने जवाब दिया।

इस बीच इंडियन पायलट्स गिल्ड (आईपीजी) के इस मुद्दे और 10 बर्खास्त पायलटों के बारे में बुधवार को चर्चा करने की सम्भावना है। मंगलवार को आईपीजी की मान्यता रद्द कर दी गई थी।

एयर इंडिया प्रबंधन ने मंगलवार को लगभग 100 पायलटों के सामूहिक चिकित्सा अवकाश पर चले जाने पर कड़ा रुख अपनाते हुए आईपीजी की मान्यता रद्द कर दी। हड़ताल की वजह से मंगलवार को चार अंतर्राष्ट्रीय उड़ानों को रद्द करना पड़ा था और कई का संचालन प्रभावित हुआ।

नागरिक उड्डयन मंत्री अजित सिंह ने एयर इंडिया के पायलटों के विरोध को 'अवैध' करार दिया था। उन्होंने कहा, "पायलट हड़ताल पर कैसे जा सकते हैं वह भी तब जब एयर इंडिया मुसीबत में है और उबरने के पथ पर चल रही है।"

चिकित्सा अवकाश पर गए पायलट अन्य मुद्दों के अलावा बोइंग-787 ड्रीमलाइनर विमान को उड़ाने का प्रशिक्षण इंडियन एयरलाइंस के पूर्व पायलटों को देने का विरोध कर रहे हैं। सिंह ने कहा कि यह उचित नहीं है।

उन्होंने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय ने इंडियन एयरलाइंस के पायलटों को ड्रीमलाइनर पर प्रशिक्षण देने के पक्ष में फैसला सुनाया है। सिंह ने कहा, "हड़ताली पायलट यह कैसे सोच सकते हैं कि सरकार सर्वोच्च न्यायालय के विरूद्ध जाएगी?"

पायलटों ने यह कदम ऐसे समय पर उठाया है जब एयरलाइन ने 42000 करोड़ रुपये की सहायता पैकेज हासिल करने के साथ छुट्टियों के समय में घाटे में कमी लाने की आशा कर रही है।

More from: Khabar
30689

ज्योतिष लेख