Get free astrology & horoscope 2013
Samanya RSS Feed
Subscribe Magazine on email:    

मशहूर फिल्मकार यश चोपड़ा नहीं रहे

yash chopra no more

21 अक्टूबर 2012

मुम्बई। दादा साहब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित प्रसिद्ध फिल्म निर्माता निर्देशक एवं पटकथा लेखक यश चोपड़ा का संक्षिप्त बीमारी के बाद रविवार को मुम्बई के लीलावती अस्पताल में निधन हो गया। वह 80 वर्ष के थे। यश चोपड़ा डेंगू से पीड़ित थे। उनके निधन से फिल्म जगत में शोक की लहर फैल गई है। डेंगू की शिकायत के चलते यश चोपड़ा को 13 अक्टूबर को मुम्बई के लीलावती अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उनके परिवार में पत्नी पामेला चोपड़ा एवं दो लड़के आदित्य एवं उदय हैं।

अस्पताल प्रशासन के एक अधिकारी ने कहा, "उनके कई अंगों ने काम करना बंद कर दिया था। वह गहन चिकित्सा कक्ष में भर्ती थे।"

फिल्मकार महेश भट्ट ने यश चोपड़ा के निधन को बॉलीवुड की महान क्षति बताया।

भट्ट ने आईएएनएस से कहा, "मेरे भाई मुकेश भट्ट ने मुझे 6.30 बजे फोन किया और वह रोने लगा। उसने मुझे बताया कि यशजी का निधन हो गया। वह उनके बेहद नजदीक था। यह बहुत दुखद और बड़ी क्षति है।"

फिल्म के क्षेत्र में अपने अविस्मरणीय योगदान के लिए भारत सरकार ने उन्हें 2001 में दादा साहब फाल्के एवं 2005 में पद्म भूषण से सम्मानित किया।

यशराज चोपड़ा का जन्म 21 सितम्बर 1932 को अविभाजित भारत के लाहौर शहर में हुआ था। यशराज ने अपना फिल्मी करियर अपने बड़े भाई बी.आर. चोपड़ा (बल राज चोपड़ा) के सहायक के तौर पर किया।

यशराज ने बीआर फिल्म्स के तले बनी फिल्म 'धूल का फूल' के जरिए निर्देशन के क्षेत्र में सफलतापूर्वक कदम रखा। इसके बाद उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। यश ने बीआर फिल्म्स की जबरदस्त सफल फिल्म 'वक्त' के अलावा अमिताभ बच्चन अभिनीत 'दीवार' का भी निर्देशन किया। इस फिल्म ने अमिताभ को एंग्री यंग मैन के खिताब से नवाजा।

यशराज ने 1973 में यशराज फिल्म्स से खुद का बैनर स्थापित किया और एक से बढ़कर एक फिल्में दी। प्रेम कहानी को पिरोने के जादूगर यशराज ने 'दाग', 'त्रिशूल', 'कभी-कभी', 'चांदनी', 'डर', 'दिल तो पागल है', 'मोहब्बतें' एवं 'वीर जारा' जैसी फिल्मों का निर्माण एवं निर्देशन किया। यशराज की फिल्में अपने संगीत के जरिए दर्शकों के दिलों में जगह बनाने में कामयाब रहीं।

इस दिनों यश चोपड़ा 'जब तक है जान' की शूटिंग में व्यस्त थे। स्वास्थ्य खराब होने के कारण फिल्म की शूटिंग के कुछ हिस्सों की शूटिंग को रोक दिया गया था। उन्होंने इस फिल्म के साथ ही फिल्म निर्माण से संन्यास की घोषणा कर दी थी।

यशराज को अपने 50 साल के फिल्मी करियर में छह राष्ट्रीय पुरस्कार एवं 11 फिल्म फेयर पुरस्कारों से नवाजा गया था।

More from: samanya
33486

मनोरंजन
जानें ऑडिशन में सफल होने के गुर

एक्टिंग में करियर बनाने वाले लोगों के लिए मनोज रमोला ने लिखी है एक किताब जिसका नाम है ऑडिशन रूम। इस किताब में लिखे हैं ऑडिशन में सफल होने के सभी गुर।

ज्योतिष लेख
इंटरव्यू
मेरा अलग 'लुक' भी मेरी पहचान है : इमरान हसनी

हिन्दी सिनेमा में चरित्र अभिनेताओं के संघर्ष की राह आसान नहीं होती। इन्हीं रास्तों में से गुज़र रहे हैं इमरान हसनी। 'पान सिंह तोमर' में इरफान खान के बड़े भाई की भूमिका निभाकर चर्चा में आए इमरान हसनी अब इंडस्ट्री में नयी पहचान गढ़ रहे हैं। यूं कशिश व रिश्तों की डोर जैसे सीरियल और ए माइटी हार्ट जैसी अंतरराष्ट्रीय फिल्में उनके झोले में पहले ही थीं। एक ज़माने में सॉफ्टवेयर इंजीनियर रहे इमरान से अभिनय के शौक व उनकी चुनौतियों के बारे में बात की गौरी पालीवाल ने।

बॉलीवुड एस्ट्रो
बोलता कैलेंडर: तारीख़, समय, मुहूर्त को बोलकर बताता है यह ऐप

बोलता कैलेंडरबोलेगा आज की तारीख़, समय, दिन, राहुकाल, अभिजीत मुहूर्त, तिथि, नक्षत्र, योगा, करण, पंचक, भद्रा, होरा और चौघड़िया साल 2019 के लिए।