Samanya RSS Feed
Subscribe Magazine on email:    

अमेरिका में तूफान ने मचाई तबाही, 200 से ज्यादा मरे

us tornado killed 200

28 अप्रैल 2011

वाशिंगटन। अमेरिका के दक्षिणी-पूर्वी हिस्सों में पिछले शुक्रवार से जारी जबरदस्त तूफान और बवंडर में कम से कम 215 लोग मारे गए हैं। तूफान ने सबसे ज्यादा तबाही अलबामा राज्य में मचाई है यहां अकेले 142 लोग मारे गए हैं। इसके अलावा जॉजिर्या, टेनेसी, मिसिसिपी और वर्जीनिया राज्यों में भी जान व माल को भारी क्षति पहुंची है। तूफान से हुए नुकसान को देखते हुए सात राज्यों में आपातकाल घोषित कर दिया गया है।

वेबसाइट 'बीबीसी' के मुताबिक अलबामा में सबसे अधिक तुसालूसा शहर प्रभावित हुआ है, जहां कम से कम 36 लोगों की मौत हो गई। शहर में अस्पताल के आपातकालीन कक्ष में 100 लोगों को भर्ती कराया गया है, जबकि करीब 400 लोगों का उपचार किया जा चुका है।

अलबामा में गुरुवार सुबह से बिजली नहीं आ रही है, इससे करीब दस लाख लोग प्रभावित हुए हैं जबकि मलबे से लोगों को बचाने के लिए 2000 सैनिकों और कर्मचारियों को लगाया गया है। अलबामा को तत्काल संघीय सहायता भेजी जा रही है।

गवर्नर रॉबर्ट बेंटले ने कहा कि मृतकों की संख्या बढ़ सकती है क्योंकि मलबे से और शवों को निकाला जा रहा है। उन्होंने कहा, "हमारे पास आज सुबह तक लापता हुए लोगों की सूची है। हम लापता लोगों को खोज निकालने के लिए अपने सभी संसाधनों का इस्तेमाल करेंगे।

मौसम विभाग ने तुसालूसा में तबाही को अलबामा राज्य के इतिहास अब तक सबसे भयंकर करार दिया। 'यूएस नेशनल वेदर सर्विस' की शुरुआती रिपोर्ट में शुक्रवार से शुरू हुए तूफान के बाद बवंडरों की संख्या 300 बताई गई है, जिनमें से 130 से अधिक अकेले बुधवार को आए। मौसम विभाग के अनुसार तूफान उत्तर-पूर्व में आगे बढ़ने से पहले उत्तरी और दक्षिणी कैरोलिना को भी प्रभावित कर सकता है।

वेबसाइट 'सीएनएन' के अनुसार अलाबामा में 'नेशनल गार्ड' ने राज्य के सर्वाधिक प्रभावित क्षेत्र में राहत कार्य के लिए सैकड़ों कर्मियों को भेजा है। इसने अलबामा के गवर्नर रॉबर्ट बेंटले के हवाले से लिखा है, "यह बहुत गंभीर और जानलेवा है।"

राष्ट्रपति बराक ओबामा ने बुधवार को घोषणा की कि उन्होंने राहत और बचाव कार्य के लिए तत्काल संघीय सहयोग देने के बेंटले के अनुरोध को स्वीकार कर लिया है। एक बयान में उन्होंने कहा, "हम अलबामा और तूफान से प्रभावित सभी क्षेत्रों के लोगों की सहायता के लिए तैयार हैं।" उन्होंने तूफान में जान गंवाने वालों के परिजनों के प्रति संवेदना जताई।

तूफान की वजह से कई शहरों में रातभर अंधेरा रहा। बड़ी संख्या में पेड़ उखड़ गए, जो कहीं सड़कों पर तो कहीं मकानों पर और कहीं राह चलते लोगों पर जा गिरे। जगह-जगह अवरोध पैदा होने की वजह से सड़कों पर यातायात बाधित रहा। मकान और व्यावसायिक प्रतिष्ठानों को भी व्यापक नुकसान हुआ है।
 
तस्वीर साभार-फॉक्स न्यूज
More from: samanya
20358

ज्योतिष लेख