Samanya RSS Feed
Subscribe Magazine on email:    

फिल्मों को मुश्किल से कला माना जाता है : रीमा कागती

rema kagti director of talash

 
1 नवंबर 2012

मुम्बई।  'तलाश' की निर्देशक रीमा कागती महसूस करती हैं कि भारतीय फिल्मों को मुश्किल से ही कला माना जाता है और उन्हें सिर्फ मनोरंजन का साधन समझा जाता है।


उन्होंने कहा, "भारत में फिल्मों को मुश्किल से ही कला माना जाता है। यहां उन्हें मनोरंजन समझा जाता है। फिल्म समारोहों के जरिए हम फिल्म निर्माण की इस छवि को तोड़ रहे हैं. और मुझे इस बात की खुशी है।"


काग्ति ने कहा कि 2007 में 'हनीमून ट्रैवल्स प्राइवेट लिमिटेड' बनाने के बाद उन्होंने कोई व्यावसायिक या कला फिल्म बनाने के लिए जानबूझ कर कभी कोई प्रयास नहीं किया।


उन्होंने कहा, "मैंने यह तय नहीं किया कि मैं इस तरह की या उस तरह की फिल्म बनाने जा रही हूं। मेरे लिए फिल्म बनाने के लिए कहानी से प्यार होना और फिर उसके लिए पटकथा लिखना जरूरी है।"


काग्ति ने कहा, "मैंने कभी भी जानबूझकर व्यावसायिक फिल्म बनाने या महोत्सवों में प्रदर्शन के लिए फिल्म बनाने की कोशिश नहीं की। मैंने सिर्फ कहानियां पढ़ीं और जब मैं प्रभावित हुई तो उन पर आगे बढ़ी।"


उनकी रोमांच से भरी फिल्म 'तलाश' 30 नवंबर को प्रदर्शित होने जा रही है।

 

More from: samanya
33579

ज्योतिष लेख