Samanya RSS Feed
Subscribe Magazine on email:    

चौंका सकता है क्विकगन मुरुगन का वेजिटेरियन अंदाज

अटपटा नाम और रोचक स्क्रिप्‍ट, आने वाली 28 अगस्‍त को रिलीज हो रही फिल्‍म क्विकगन मुरुगन वाकई कई मायनो में अनोखी है। यदि तेलुगू फिल्‍मों का  सुपरस्‍टार एक अंग्रेजी फिल्‍म में बंगाली डायरेक्‍टर के निर्देशन में एक तमिल युवक की भूमिका निभा रहा हो तो उत्‍सुकता वैसे ही बढ जाती है। ऊपर से फॉक्‍स स्‍टार स्‍टूडियोज द्वारा निर्मित इस फिल्‍म की कहानी में भी नयापन है। फिल्‍म की कहानी में शाकाहारी भोजन की प्रधानता को दिखाया गया है और इसके लिए फिल्‍म में मुख्‍य भूमिका निभा रहे डा राजेंद्र प्रसाद ने सांभर काउब्‍वॉय के चरित्र को पर्दे पर उतारा है।

दरअसल, क्विकगन मुरुगन का निर्माण कहीं न कहीं पिछले साल की हिट हिंदी फिल्‍म ओम शांति ओम से जुडा है। ओम शांति ओम के एक दृश्‍य में नायक शाहरुख खान तमिल अभिनेताओं का मजाक उड़ाते हैं और क्विकगन मुरुगन की कहानी में इसी थीम को आगे दिखाया गया है।

जाहिर है ऐसे कथानक के साथ फिल्‍म में कॉमेडी का तड़का भरपूर मात्रा में मौजूद है। मांसाहारी की अपेक्षा शाकाहारी खाने को बेहतर दिखाने के लिए राजेंद्र प्रसाद के चरित्र को बड़े कैनवास पर सुपरहीरो का दर्जा दिया गया है। वो अपने हैरतअंगेज कारनामों से पूरी दुनिया में वेज खाने की श्रेष्‍ठता सिद्ध करने का प्रयास करते नजर आते हैं। और तो और, फिल्‍म के प्रमोशन में भी उनके इसी रूप को प्रचारित किया जा रहा है। फिल्‍म में अपनी भूमिका के बारे में राजेंद्र कहते हैं, 'पूरी फिल्‍म ही मेरे लिए एक प्रमोशन के जैसा है। करियर के हर मुकाम पर हमें कुछ न कुछ नया सीखने को मिलता है और मेरा मानना है कि क्विकगन मुरुगन मेरे करियर में भी मील का पत्‍थर साबित हो सकता है।' खास बात है कि फॉक्‍स स्‍टार स्‍टूडियोज ने 'गुड, बैड एंड इडली' नाम से फिल्‍म के सीक्‍वेल के निर्माण की भी घोषणा कर दी है।

फिल्‍म के निर्देशक शशांक घोष की माने तो क्विकगन मुरुगन की खासियत केवल इसका अनोखा कथानक और एक कॉमिक कैरेक्‍टर को सुपरहीरो का दर्जा देने तक ही सीमित नहीं है। जानी-मानी अभिनेत्री रंभा लंबे समय बाद इस फिल्‍म के माध्‍यम से रूपहले पर्दे पर अपनी वापसी कर रही हैं। घोष के मुतागिक रंभा इस फिल्‍म में आधुनिक बार्बी डॉल की भूमिका निभा रही हैं जो दर्शकों को काफी पसंद आएगा। घोष इससे पहले एक और कॉमेडी फिल्‍म वैसा भी होता है- 2 का निर्देशन कर चुके हैं। 
 
इतना ही नहीं, संभावना है कि यह फिल्‍म गिनीज बुक ऑफ वर्ल्‍ड रिकॉर्ड्स तक में अपना नाम दर्ज करा सकती है। दरअसल, निर्माताओं ने इसके प्रमोशन के लिए ऐसा तरीका अख्तियार किया है जिससे वेजिटेरियन खाने के साथ-साथ फिल्‍म के प्रति भी लोगों की उत्‍सुकता बढे। इसके लिए अहमदाबाद के एक रेस्‍टोरेंट में हीरो राजेंद्र प्रसाद ने दुनिया का सबसे बड़ा डोसा बनाया है। गौरतलब है कि इससे पहले 30 फीट बड़ा डोसा बनाकर संकल्‍प नाम का यह रेस्‍टोरेंट पहले से ही गिनीज बुक में शामिल है, लेकिन राजेंद्र 31 फीट का डोसा बनाकर इस रिकॉर्ड को तोड़ने वाले हैं। आखिर जब फिल्‍म का हीरो पूरी फिल्‍म में हर जगह खाने के लिए डोसा ही मांगता नजर आए तो इसके प्रचार का इससे अच्‍छा तरीका भला और क्‍या हो सकता है।
More from: samanya
976

ज्योतिष लेख