Get free astrology & horoscope 2013
Samanya RSS Feed
Subscribe Magazine on email:    

मिशन 2014 : मायावती की नजर दूसरे राज्यों पर

mission 2014 mayawati sight of on other states

14 जुलाई 2012

लखनऊ। देश में वर्ष 2014 में होने वाले आम चुनाव से पहले उत्तर प्रदेश सहित अन्य राज्यों के पिछड़े और दलित वोटों को अपने पाले में करने के लिए बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की अध्यक्ष मायावती पूरी शिद्दत के साथ जुटेंगी। इसकी शुरुआत उन्होंने नए प्रदेश अध्यक्ष को प्रदेश की प्रमुख जिम्मेदारियां सौंपकर कर दी है।

विश्लेषकों के अनुसार, मायावती ने प्रदेश की कमान रामअचल राजभर को सौंपकर अपने रुख का संकेत भी दे दिया है। उन्होंने पार्टी के वर्तमान प्रदेश अध्यक्ष को पूर्व प्रदेश अध्यक्ष स्वामी प्रसाद मौर्य से अधिक अधिकार दिए हैं।

केंद्र में समाजवादी पार्टी (सपा) और कांग्रेस की बढ़ती नजदीकियों की वजह से भी मायावती अपने आप को राष्ट्रीय फलक पर ही केंद्रित करने का मन बना रही हैं, ताकि उत्तर प्रदेश में धुर विरोधी पार्टी सपा की काट खोजी जा सके।

बसपा के एक वरिष्ठ नेता ने बताया कि मायावती ने संगठन में बड़ा फेरबदल इसलिए किया, ताकि वह ज्यादा से ज्यादा समय दूसरे राज्यों को दे सकें। अगले आम चुनाव को ध्यान में रखकर मायावती उन राज्यों में खासतौर पर ध्यान केंद्रित करना चाहती हैं, जहां कांग्रेस सत्ता में है। इसकी वजह यह है कि इन राज्यों में सपा अपना जनाधार बढ़ाकर दलितों को अपने पाले में लाना चाहती है। उत्तर प्रदेश के बाहर दलित वोट का बहुत बड़ा हिस्सा कांग्रेस को ही मिल रहा है।

बसपा के इस नेता ने बताया कि मायावती अब तक लखनऊ में हर माह की 10 तारीख को पदाधिकारियों की बैठक खुद लेती थीं, लेकिन अब उन्होंने यह जिम्मेदारी नए प्रदेश अध्यक्ष रामअचल राजभर को सौंप दी है। पदाधिकारी अब मायावती की बजाय राजभर को ही रिपोर्ट करेंगे।

सूत्रों के मुताबिक, मायावती ने राजभर को और भी जिम्मेदारियां सौंपी हैं। मसलन, संगठन मजबूत करने के लिए मंडलों का दौरा करना और कब कहां बैठक करनी है, ये जिम्मेदारी भी राजभर ही सम्भालेंगे।

नई जिम्मेदारी मिलने से खुश बसपा के नए प्रदेश अध्यक्ष राजभर ने भी कहा कि उनकी सबसे बड़ी जिम्मेदारी लोकसभा चुनाव में पार्टी को अधिक से अधिक सीटें जीताना है और इसके लिए वह दिन-रात मेहनत करेंगे।

राजनीतिक विश्लेषक ए.एन. शुक्ल कहते हैं, "विधानसभा में शिकस्त के बाद मायावती राज्यसभा चली गईं। अब उनकी मंशा राष्ट्रीय परिदृश्य में अपने आप को बनाए रखने की है, ताकि वह सपा और कांग्रेस की नजदीकियों पर नजर रख सकें।"

 

More from: samanya
31826

मनोरंजन
जानें ऑडिशन में सफल होने के गुर

एक्टिंग में करियर बनाने वाले लोगों के लिए मनोज रमोला ने लिखी है एक किताब जिसका नाम है ऑडिशन रूम। इस किताब में लिखे हैं ऑडिशन में सफल होने के सभी गुर।

ज्योतिष लेख
इंटरव्यू
मेरा अलग 'लुक' भी मेरी पहचान है : इमरान हसनी

हिन्दी सिनेमा में चरित्र अभिनेताओं के संघर्ष की राह आसान नहीं होती। इन्हीं रास्तों में से गुज़र रहे हैं इमरान हसनी। 'पान सिंह तोमर' में इरफान खान के बड़े भाई की भूमिका निभाकर चर्चा में आए इमरान हसनी अब इंडस्ट्री में नयी पहचान गढ़ रहे हैं। यूं कशिश व रिश्तों की डोर जैसे सीरियल और ए माइटी हार्ट जैसी अंतरराष्ट्रीय फिल्में उनके झोले में पहले ही थीं। एक ज़माने में सॉफ्टवेयर इंजीनियर रहे इमरान से अभिनय के शौक व उनकी चुनौतियों के बारे में बात की गौरी पालीवाल ने।

बॉलीवुड एस्ट्रो
बोलता कैलेंडर: तारीख़, समय, मुहूर्त को बोलकर बताता है यह ऐप

बोलता कैलेंडरबोलेगा आज की तारीख़, समय, दिन, राहुकाल, अभिजीत मुहूर्त, तिथि, नक्षत्र, योगा, करण, पंचक, भद्रा, होरा और चौघड़िया साल 2019 के लिए।