Get free astrology & horoscope 2013
Samanya RSS Feed
Subscribe Magazine on email:    

उमराव जान का संगीत बनाते समय बहुत भयभीत था : खय्याम

khayyam-on-umrao-jaan-music
19 फरवरी 2013

मुम्बई। महान संगीतकार खय्याम का कहना है कि पाकीजा की जबरदस्त सफलता के बाद उमराव जान का संगीत बनाते समय उन्हें बहुत डर लग रहा था। खय्याम ने सोमवार को अपना 86वां जन्मदिन मनाया। उन्होंने कहा कि पाकीजा और उमराव जान की पृष्भूमि एक जैसी थी। खय्याम ने एक मुलाकात में कहा, "उमराव जान और पाकीजा का विषय लगभग एक ही था। पाकीजा कमाल अमरोही साहब ने बनाई थी, जिसमें मीना कुमारी, अशोक कुमार, राज कुमार थे। इसका संगीत गुलाम मोहम्मद ने दिया था और यह जबरदस्त हिट फिल्म थी। ऐसे में उमराव जान का संगीत बनाते समय मैं बहुत डरा हुआ था।"

उन्होंने कहा कि लोग पाकीजा में सब कुछ देख सुन चुके थे। खय्याम ने कहा कि उमराव जान के बारे में पढ़ने से उन्हें काफी मदद मिली। "फिर मैंने इतिहास पढ़ना शुरू किया, उमराव जान कैसे इतनी बड़ी गायिका बनी, वह गजब की नर्तकी थीं और शायरी भी करती थीं।"

'पाकीजा' 1972 में और मुजफ्फर अली की 'उराव जान' 1981 में रिलीज हुई थी और दोनों का ही संगीत आज भी हिट है। खय्याम 'आखिरी खत', 'कभी कभी', 'नूरी' और 'थोड़ी सी बेवफाई' जैसी फिल्मों के लिए जाने जाते हैं।
More from: samanya
34581

मनोरंजन
जानें ऑडिशन में सफल होने के गुर

एक्टिंग में करियर बनाने वाले लोगों के लिए मनोज रमोला ने लिखी है एक किताब जिसका नाम है ऑडिशन रूम। इस किताब में लिखे हैं ऑडिशन में सफल होने के सभी गुर।

ज्योतिष लेख
इंटरव्यू
मेरा अलग 'लुक' भी मेरी पहचान है : इमरान हसनी

हिन्दी सिनेमा में चरित्र अभिनेताओं के संघर्ष की राह आसान नहीं होती। इन्हीं रास्तों में से गुज़र रहे हैं इमरान हसनी। 'पान सिंह तोमर' में इरफान खान के बड़े भाई की भूमिका निभाकर चर्चा में आए इमरान हसनी अब इंडस्ट्री में नयी पहचान गढ़ रहे हैं। यूं कशिश व रिश्तों की डोर जैसे सीरियल और ए माइटी हार्ट जैसी अंतरराष्ट्रीय फिल्में उनके झोले में पहले ही थीं। एक ज़माने में सॉफ्टवेयर इंजीनियर रहे इमरान से अभिनय के शौक व उनकी चुनौतियों के बारे में बात की गौरी पालीवाल ने।

बॉलीवुड एस्ट्रो
बोलता कैलेंडर: तारीख़, समय, मुहूर्त को बोलकर बताता है यह ऐप

बोलता कैलेंडरबोलेगा आज की तारीख़, समय, दिन, राहुकाल, अभिजीत मुहूर्त, तिथि, नक्षत्र, योगा, करण, पंचक, भद्रा, होरा और चौघड़िया साल 2019 के लिए।