Samanya RSS Feed
Subscribe Magazine on email:    

जापान त्रासदी : रिएक्टर 3 के क्षतिग्रस्त होने की आशंका

japan tragedy, 3 reactor more seriously damaged than thought

25 मार्च, 2011

टोक्यो। जापान की परमाणु सुरक्षा एजेंसी का कहना है कि इस बात काफी ज्यादा आशंका है कि फुकुशिमा परमाणु संयंत्र की रिएक्टर संख्या तीन क्षतिग्रस्त हो चुका है और उससे उच्च स्तर का रेडियोधर्मी विकिरण फैल रहा है। वहीं आपात कार्य में जुटे कर्मचारियों को रिएक्टर एक और दो के पानी में अत्यधिक रेडियोधर्मिता के कारण शुक्रवार को आपात कार्य रोकना पड़ा है।

जापान सरकार ने संयंत्र के 20 से 30 किलोमीटर के दायरे में रह रहे लोगों को स्वैच्छा से इलाका खाली करने की सलाह दी है और गुरुवार को संयंत्र में काम कर रहे तीन कर्मचारियों के विकिरण की चपेट में आने के बाद संयंत्र संचालक कम्पनी ने सुरक्षा उपायों में वृद्धि की है।

11 मार्च के भूकम्प से क्षतिग्रस्त इस संयंत्र में कूलिंग सिस्टम दोबारा चालू करने के लिए आपात कार्य में जुटे कर्मचारियों को रिएक्टर संख्या एक और दो में यह काम स्थगित करना पड़ा है। भूकम्प के बाद इस संयंत्र में लगातार विस्फोट, आग और रेडियोधर्मी विकिरण फैलने की घटनाएं जारी हैं।

संयंत्र की संचालक कम्पनी टोक्यो इलेक्ट्रिक पावर कम्पनी (टेप्को) ने कहा कि गुरुवार को तीन कर्मचारी संयंत्र में रेडियोधर्मी विकिरण की चपेट में आ गए थे। सामान्य से 10,000 गुना ज्यादा विकिरण के सम्पर्क में आए इन कर्मचारियों को अस्पताल ले जाया गया था।

जापान की समाचार एजेंसी 'एनएचके वर्ल्ड' के मुताबिक जापान की परमाणु सुरक्षा एजेंसी ने कहा है कि संभवत: संयंत्र की रिएक्टर संख्या तीन क्षतिग्रस्त है जिससे रेडियोधर्मी विकिरण लगातार फैल रहा है।

एजेंसी ने कहा कि इस बात की काफी आशंका है कि यह इकाई क्षतिग्रस्त है और विकिरण का प्रसार रोकने में अक्षम साबित हो रही है।

एनएचके के मुताबिक जापान सरकार ने संयंत्र से 20 से 30 किलोमीटर के दायरे में रहने की स्थितियों को गंभीर मानते हुए यहां के लोगों को स्वैच्छा से इस इलाके से दूर जाने की सलाह दी है।

मुख्य कैबिनेट सचिव यूकियो इनादो ने शुक्रवार को पत्रकारों से कहा कि इस क्षेत्र में कारोबार और विपणन व्यवस्था बुरी तरह से बाधित है और बड़ी संख्या में लोग स्वैच्छिक रूप से यह इलाका छोड़ रहे हैं।

इनादो ने इस बात की संभावना से भी इंकार नहीं किया कि सरकार आधिकारिक रूप से खाली कराए जाने वाले इलाके का दायरा बढ़ाकर संयंत्र से 30 किलोमीटर तक का कर सकती है। फिलहाल 20 किलोमीटर तक के दायरे के लोगों को हटाया गया है।

उन्होंने कहा कि इन इलाकों के स्थानीय प्रशासन सरकार से बेहतर समन्वय बनाए रखें और इलाके को खाली कराए जाने का आदेश मिलने पर कार्रवाई करें।

दूसरी ओर टोक्यो सहित जापान के कुल छह प्रशासकीय क्षेत्रों में 18 जल शोधन इकाइयों में रेडियोधर्मी पदार्थ पाए गए हैं। इनका स्तर नवजात शिशुओं के लिए सुरक्षित स्तर से ज्यादा है।

इन इकाइयों में पाया गया रेडियोधर्मी आयोडीन-131 प्राकृतिक रूप से नहीं पाया जाता। जानकारों का कहना है कि हवा और नदियों के पानी के जरिए यह पदार्थ क्षतिग्रस्त परमाणु संयंत्र से फैले हैं।

जापान में 11 मार्च के भूकम्प और सुनामी में 10,000 से ज्यादा लोगों की मौत की पुष्टि की गई है। वहीं सरकार ने कहा है कि इस आपदा से देश में 300 अरब डॉलर से ज्यादा की सम्पत्ति का नुकसान हुआ है।

समाचार एजेंसी क्योडो के मुताबिक राष्ट्रीय पुलिस एजेंसी ने स्थानीय समय 10.00 बजे कहा कि आपदा में मृतकों की संख्या बढ़कर 10,019 हो गई है। पुलिस के मुताबिक 17,541 लोग अब भी लापता हैं।

वहीं भूकम्प और सुनामी से देश में 300 अरब डॉलर से अधिक की सम्पत्ति के नुकसान का अनुमान जताया गया है।

जापान सरकार के हवाले से क्योडो समाचार एजेंसी ने कहा है कि इस प्राकृतिक आपदा से 16 से 25 अरब येन (197 से 308.5 अरब डॉलर)के नुकसान का अनुमान है।

प्रशासन ने मियागी प्रशासकीय में मिली करीब 2,000 शवों से सम्बंधित जानकारियां इंटरनेट पर प्रकाशित की हैं ताकि मृतकों के परिजन उनकी पहचान कर सकें।

More from: samanya
19458

ज्योतिष लेख