Get free astrology & horoscope 2013
Astrology RSS Feed
Subscribe Magazine on email:    

कैंसर फैलाते हैं ऊर्जा बचाने वाले बल्ब

cfl-may-be-cause-of-cancer-04201121

21 अप्रैल 2011

लंदन। ऊर्जा बचाने वाले काम्पेक्ट फ्लोरेसेंट लैम्प्स (सीएफएल) बल्ब निसंदेह हमारे बटुए के लिए अच्छे हैं लेकिन इनका हमारे स्वास्थ्य पर घातक असर पड़ सकता है। वैज्ञानिकों का दावा है कि जलाए जाने के साथ ही ये बल्ब कैंसर पैदा करने वाले रसायन छोड़ते हैं।

जर्मनी के वैज्ञानिकों के मुताबिक इन बल्बों का अधिक समय तक उपयोग घातक हो सकता है। खासतौर पर इन्हें किसी व्यक्ति के सिर के करीब जलाए जाने से कैंसर का ज्यादा खतरा है।

बर्लिन एलैब लैब में में इन बल्बों का परीक्षण करने वाले पीटर ब्राउन ने कहा, "ऊर्जा बचाने वाले बल्ब कार्सिनोजेनिक होते हैं। इन्हें मनुष्य के पर्यावरण से जितना हो सके उतना दूर रखना चाहिए।"

यूरोपीयन यूनियन के निर्देश पर ब्रिटेन में इन बल्बों का बहुतायत में उपयोग हो रहा है। समचार पत्र 'टेलीग्राफ' के मुताबिक इस वर्ष के अंत तक ब्रिटेन में पारंपरिक फिलामेंट वाले बल्बों का उपयोग पूरी तरह बंद हो जाएगा।

लेकिन जर्मनी के वैज्ञानिक मानते हैं कि ऊर्जा बचाने वाले काम्पेक्ट फ्लोरेसेंट लैम्प्स (सीएफएल) बल्बों से स्ट्रीन, फेनोल और नेप्थालीन जैसे जहरीले पदार्थ निकलते हैं।

फेडरेशन ऑफ जर्मन इंजीनियर्स के आंद्रेस किचनर ने कहा, "काम्पेक्ट फ्लोरेसेंट लैम्प्स (सीएफएल) बल्बों के आसपास इलेक्ट्रानिक स्मॉग जमा हो जाता है।"

"यही कारण है कि इनका उपयोग बहुत चतुराई से करने को कहा जाता है। इन बल्बों का उपयोग ऐसे स्थान पर नहीं करना चाहिए, जहां हवा के आने-जाने का रास्ता न हो। इसे सिर के करीब बिल्कुल नहीं जलाना चाहिए।"

इस सम्बंध में इजरायल के हाएफा विश्वविद्यालय के जीवविज्ञान के प्रोफेसर अब्राहम हाइम ने हाल ही में एक रिपोर्ट प्रकाशित की थी, जिसमें कहा गया था कि देर रात तक उपयोग में लाए जाने के कारण काम्पेक्ट फ्लोरेसेंट लैम्प्स (सीएफएल) स्तन कैंसर के मामलों को बढ़ा सकते हैं।


 

More from: Astrology
20196

मनोरंजन
जानें ऑडिशन में सफल होने के गुर

एक्टिंग में करियर बनाने वाले लोगों के लिए मनोज रमोला ने लिखी है एक किताब जिसका नाम है ऑडिशन रूम। इस किताब में लिखे हैं ऑडिशन में सफल होने के सभी गुर।

ज्योतिष लेख
इंटरव्यू
मेरा अलग 'लुक' भी मेरी पहचान है : इमरान हसनी

हिन्दी सिनेमा में चरित्र अभिनेताओं के संघर्ष की राह आसान नहीं होती। इन्हीं रास्तों में से गुज़र रहे हैं इमरान हसनी। 'पान सिंह तोमर' में इरफान खान के बड़े भाई की भूमिका निभाकर चर्चा में आए इमरान हसनी अब इंडस्ट्री में नयी पहचान गढ़ रहे हैं। यूं कशिश व रिश्तों की डोर जैसे सीरियल और ए माइटी हार्ट जैसी अंतरराष्ट्रीय फिल्में उनके झोले में पहले ही थीं। एक ज़माने में सॉफ्टवेयर इंजीनियर रहे इमरान से अभिनय के शौक व उनकी चुनौतियों के बारे में बात की गौरी पालीवाल ने।

बॉलीवुड एस्ट्रो
बोलता कैलेंडर: तारीख़, समय, मुहूर्त को बोलकर बताता है यह ऐप

बोलता कैलेंडरबोलेगा आज की तारीख़, समय, दिन, राहुकाल, अभिजीत मुहूर्त, तिथि, नक्षत्र, योगा, करण, पंचक, भद्रा, होरा और चौघड़िया साल 2019 के लिए।