Khabar RSS Feed
Subscribe Magazine on email:    

आडवाणी-राजनाथ से मुलाकात के बाद सुलझ सकता है वसुंधरा राजे का मुद्दा

नई दिल्ली, 22 अगस्त

राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे शनिवार को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) अध्यक्ष राजनाथ सिंह और वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी से मुलाकात कर सकती हैं । इसके साथ ही राज्य विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष के पद से उन्हें हटाने को लेकर जारी नाटक का भी संभवत: पटाक्षेप हो सकता है।

भाजपा के एक वरिष्ठ नेता ने आईएएनएस को बताया, "वह राजनाथजी से मिल पाएंगी या नहीं यह तो अभी साफ नहीं है लेकिन ज्यादा संभावना इसकी है कि वह आडवाणीजी से मिलेंगी। यह हालांकि अब तक कोई नहीं जानता कि वह इस्तीफा देंगी या नहीं।"

जसवंत सिंह के निष्कासन का हवाला देते हुए उन्होंने कहा, "अनुशासनहीनता के मसले पर पार्टी का रुख एकदम स्पष्ट है और हर कोई इसका नतीजा देख चुका है।"

लोकसभा चुनावों और पिछले साल के आखिर में हुए राजस्थान विधानसभा चुनावों में पार्टी की पराजय के मद्देनजर राजनाथ सिंह ने पिछले सप्ताह राजे से विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष के पद से इस्तीफा देने को कहा था। लेकिन राजे ने यह कहकर इस्तीफा देने से इंकार कर दिया था कि पार्टी की हार के लिए अकेले उन्हें ही जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता।
 
रविवार को पार्टी संसदीय बोर्ड की बैठक के बाद भाजपा अध्यक्ष ने कहा था कि उन्हें यकीन है कि राजे पार्टी की बात मानते हुए पद से हट जाएंगी। हालांकि उन्होंने राजे के इस्तीफे के लिए कोई समय सीमा नहीं रखी।

पार्टी की राजस्थान इकाई ने मंगलवार को दो पार्टी विधायकों को राजे का समर्थन करने के लिए अनुशासनहीनता के आधार पर निलंबित कर दिया था।

सूत्रों ने बताया, "वह उनके निलंबन का मसला भी उठा सकती हैं। इस समय उन्हें 60 से ज्यादा भाजपा विधायकों का समर्थन हासिल है।"

भाजपा को वर्ष 2004 को हुए आमचुनावों में राजस्थान से 21 सीटे मिली थीं और हाल में संपन्न आम चुनावों में पार्टी को महज चार सीटे ही मिल पाईं। जबकि पिछले साल हुए राज्य विधानसभा चुनावों में भाजपा को सत्ता से हाथ धोना पड़ा।


(IANS)

More from: Khabar
978

ज्योतिष लेख