Get free astrology & horoscope 2013
Samanya RSS Feed
Subscribe Magazine on email:    

सुखद आश्चर्य है पद्मश्री मिलना : श्रीदेवी

sridevi happy with english vinglish

 

 29 जनवरी 2013

मुम्बई। बॉलीवुड अभिनेत्री श्रीदेवी कहती हैं कि हर कलाकार के लिए पहचान और आधिकारिक मान्यता मायने रखती है। श्रीदेवी ने 16 सालों तक फिल्म जगत से दूर रहने के बाद हाल ही में फिल्म 'इंग्लिश विंग्लश' से बॉलीवुड में शानदार वापसी की।


श्रीदेवी ने कहा, "मेरा सौभाग्य है कि दर्शक अब भी मुझे इतना प्यार करते हैं और पर्दे पर मुझे देखना चाहते हैं। पद्मश्री पाना मेरे लिए एक बहुत सुखद आश्चर्य है।"

 

उन्होंने कहा, "मैं नहीं जानती कि मैं कैसे इस सम्मान को पाने के योग्य हुई। पर मैंने कुछ तो ऐसा किया होगा कि भारत सरकार ने इस सम्मान के लिए मुझे चुना।"


अस्सी-नब्बे के दशक में चोटी की नायिका रहते हुए श्रीदेवी ने निर्माता बोनी कपूर से विवाह किया और सिनेमा जगत से दूर हो गईं थीं।


श्रीदेवी ने 'सदमा', 'लम्हे' और 'चांदनी' जैसी कालातीत फिल्मों में काम किया है। वह कहती हैं कि जीवन और करियर के इस दौर में वह पुरस्कारों के लिए लालायित नहीं हैं। लेकिन पद्मश्री खास है। इससे यह पता चलता हैं कि भारत सरकार ने फिल्मों में मेरे योगदान को पहचाना है और यह मेरे लिए खुशी की बात है।


हालांकि श्रीदेवी (50) इस समय ज्यादा फिल्में पाने की चाहत नहीं रखतीं लेकिन अपने करियर के लिए वह अब भी उर्जावान हैं।


उन्होंने कहा, "मैंने छह साल की उम्र से ही फिल्मों में काम करना शुरू किया लेकिन अब भी मुझे नहीं लगता कि मैं काफी सालों से अभिनय कर रही हूं। अब भी मैं हर फिल्म और किरदार में ऐसा महसूस करती हूं जैसे यह मेरी पहली फिल्म हो। हालांकि मेरी फिल्म 'इंग्लिश विंग्लिश' निर्देशिका गौरी शिंदे की पहली फिल्म थी लेकिन उनसे ज्यादा अनाड़ीपन मैं महसूस कर रही थी।"


श्रीदेवी ने बाल कलाकार के तौर पर 1967 में सिनेमा जगत में कदम रखा था। वह दो बेटियों की मां हैं। उनकी बड़ी बेटी जाह्न्वी के फिल्मों में आने की अफवाहों पर हंसते हुए श्रीदेवी कहती हैं, "वह सिर्फ 16 साल की है। अभी उसे दुनिया को देखने समझने और खुद की पसंद नापसंद को समझने की जरूरत है। हम मां-बेटी होने से ज्यादा एक-दूसरे के दोस्त हैं और काफी सारी बातें एक-दूसरे से साझा करते हैं।"


श्रीदेवी 1980 में आई फिल्म 'हिम्मतवाला' से चर्चा में आईं थीं और काफी लोकप्रिय हुईं थीं। फिल्म 'इंग्लिश विंग्लिश' के बाद से उन्हें काफी सारी फिल्मों के प्रस्ताव मिल रहे हैं।


 

More from: samanya
34438

मनोरंजन
जानें ऑडिशन में सफल होने के गुर

एक्टिंग में करियर बनाने वाले लोगों के लिए मनोज रमोला ने लिखी है एक किताब जिसका नाम है ऑडिशन रूम। इस किताब में लिखे हैं ऑडिशन में सफल होने के सभी गुर।

ज्योतिष लेख
इंटरव्यू
मेरा अलग 'लुक' भी मेरी पहचान है : इमरान हसनी

हिन्दी सिनेमा में चरित्र अभिनेताओं के संघर्ष की राह आसान नहीं होती। इन्हीं रास्तों में से गुज़र रहे हैं इमरान हसनी। 'पान सिंह तोमर' में इरफान खान के बड़े भाई की भूमिका निभाकर चर्चा में आए इमरान हसनी अब इंडस्ट्री में नयी पहचान गढ़ रहे हैं। यूं कशिश व रिश्तों की डोर जैसे सीरियल और ए माइटी हार्ट जैसी अंतरराष्ट्रीय फिल्में उनके झोले में पहले ही थीं। एक ज़माने में सॉफ्टवेयर इंजीनियर रहे इमरान से अभिनय के शौक व उनकी चुनौतियों के बारे में बात की गौरी पालीवाल ने।

बॉलीवुड एस्ट्रो
बोलता कैलेंडर: तारीख़, समय, मुहूर्त को बोलकर बताता है यह ऐप

बोलता कैलेंडरबोलेगा आज की तारीख़, समय, दिन, राहुकाल, अभिजीत मुहूर्त, तिथि, नक्षत्र, योगा, करण, पंचक, भद्रा, होरा और चौघड़िया साल 2019 के लिए।