Get free astrology & horoscope 2013
Samanya RSS Feed
Subscribe Magazine on email:    

ए.के. हंगल : आखिर तक रहा, अभिनय के लिए जुनून

ak hangal tribute


27 अगस्त 2012

मुम्बई।  ए.के. हंगल जब 50 वर्ष के थे, तब उन्होंने पहली बार कैमरे का सामना किया। 96 वर्ष की उम्र में उन्होंने व्हीलचेयर पर बैठकर फैशन परेड की। 97 वर्ष की उम्र में उन्होंने एनिमेटेड फिल्म में अपनी आवाज दी और एक टीवी शो में हिस्सा लिया। इस तरह हंगल ने अंतिम सांस तक फन के प्रति अपना जुनून मरने नहीं दिया। उस समय भी जब वह घोर आर्थिक संकट से जूझ रहे थे।


'एक बार अभिनेता बने, तो हमेशा के लिए अभिनेता बन गए' नामक मुहावरे को चरितार्थ करने वाले हंगल लम्बी बीमारी के बाद रविवार को दुनिया के इस रंगमंच से हमेशा के लिए चले गए। वह 97 वर्ष के थे।


हंगल ने मई में जब 'मधुबाला' नामक टीवी शो में एक किरदार के लिए सहमति दी थी, तब उन्होंने कहा था, "मैं मानता हूं कि काम करने की कोई उम्र सीमा नहीं होती।" वह उस समय भी बीमार थे, लेकिन हार मानने को तैयार नहीं थे।


चार दशक से अधिक के करियर में 200 से अधिक फिल्मों में भूमिका निभाने के बाद भी हंगल तंगी का जीवन जी रहे थे, और यह बात 2011 में प्रकाश में आई।


हंगल के पास आमदनी का कोई जरिया नहीं था और उनके एकमात्र पुत्र विजय, जो खुद 70 के पार थे, को पीठ की बीमारी के कारण काम छोड़ना पड़ा था। स्थिति यह हो गई थी कि दवा का खर्च उठाना उनके लिए भारी था।


लेकिन ऐसी परिस्थिति में भी हंगल ने न तो हार मानी और न किसी से आर्थिक मदद चाही। तो यह थी उनकी जीजीविशा.. और उनका स्वाभिमान।


फिलहाल पाकिस्तान में स्थित सियालकोट में पैदा हुए हंगल ने अपना अधिकांश बचपन पेशावर में बिताया था। वह एक दर्जी के रूप में बड़े हुए, लेकिन रंगमंच के जरिए उन्होंने अपनी प्यास बुझाई।


कहा जाता है कि विभाजन के बाद वह 1949 में मुम्बई चले आए। वह वामपंथ से सम्बद्ध पीपुल्स थिएटर एसोसिएशन (इप्टा) से जुड़े हुए थे, उस इप्टा से जिसने बलराज साहनी, उत्पल दत्त, कैफी आजमी और कई अन्य को भी आकर्षित किया।


हंगल ने 1966-67 में हिंदी फिल्मों में प्रवेश किया। उनकी शुरुआती फिल्मों में 'तीसरी कसम' और 'शागिर्द' शामिल हैं।


एक अभिनेता के रूप में सिनेमा के साथ उन्होंने अपनी शुरुआत 50 की उम्र में की थी, इसलिए भूमिकाओं के लिहाज से उनके पास बहुत विकल्प नहीं बचे थे। लेकिन उन्होंने खुशी-खुशी और पूरी जिम्मेदारी के साथ नायक और नायिकाओं के चाचा, पिता और दादा की भूमिकाएं निभाई।


चरित्र अभिनेता के रूप में उन्हें 'शोले' में रहीम चाचा की भूमिका के लिए याद किया जाता है। उनकी कुछ यादगार फिल्मों में 'नमक हराम', 'शोले', 'बावर्ची', 'छुपा रुस्तम', 'अभिमान' और 'गुड्डी' शामिल हैं।


और 'शौकीन' में भला उनकी भूमिका को कौन भूल सकता है, जिसमें उन्होंने एक सेवानिवृत्त बूढ़े व्यक्ति की भूमिका निभाई थी।


हंगल की अधिकांश फिल्में देश के प्रथम सुपरस्टार राजेश खन्ना के साथ थीं, जिनका हाल ही में 18 जुलाई को निधन हो गया। हंगल ने राजेश खन्ना के साथ 'आपकी कसम', 'अमरदीप', 'फिर वही रात' और 'सौतेला भाई' में काम किया था।


हंगल इस समय अपने पुत्र विजय के साथ सांताक्रूज स्थित एक फ्लैट में रहते थे। वह आमिर खान की 'लगान' (2001) और शाहरुख खान की 'पहेली' (2006) में भी दिखे थे।


 

More from: samanya
32476

मनोरंजन
जानें ऑडिशन में सफल होने के गुर

एक्टिंग में करियर बनाने वाले लोगों के लिए मनोज रमोला ने लिखी है एक किताब जिसका नाम है ऑडिशन रूम। इस किताब में लिखे हैं ऑडिशन में सफल होने के सभी गुर।

ज्योतिष लेख
इंटरव्यू
मेरा अलग 'लुक' भी मेरी पहचान है : इमरान हसनी

हिन्दी सिनेमा में चरित्र अभिनेताओं के संघर्ष की राह आसान नहीं होती। इन्हीं रास्तों में से गुज़र रहे हैं इमरान हसनी। 'पान सिंह तोमर' में इरफान खान के बड़े भाई की भूमिका निभाकर चर्चा में आए इमरान हसनी अब इंडस्ट्री में नयी पहचान गढ़ रहे हैं। यूं कशिश व रिश्तों की डोर जैसे सीरियल और ए माइटी हार्ट जैसी अंतरराष्ट्रीय फिल्में उनके झोले में पहले ही थीं। एक ज़माने में सॉफ्टवेयर इंजीनियर रहे इमरान से अभिनय के शौक व उनकी चुनौतियों के बारे में बात की गौरी पालीवाल ने।

बॉलीवुड एस्ट्रो
बोलता कैलेंडर: तारीख़, समय, मुहूर्त को बोलकर बताता है यह ऐप

बोलता कैलेंडरबोलेगा आज की तारीख़, समय, दिन, राहुकाल, अभिजीत मुहूर्त, तिथि, नक्षत्र, योगा, करण, पंचक, भद्रा, होरा और चौघड़िया साल 2019 के लिए।